>    >  पुलिस एवं अपराध।

पुलिस एवं अपराध।

 

हमारा शहर इंदौर अपनी स्थापना के समय से ही देशभर में शांति एवं सद्भाव का प्रतीक रहा है। हालांकि कई कारणों पिछले कुछ दशकों में प्रदेश में अपराध में काफी इजाफा हुआ जिस वजह से क्राइम रेट में भी बढ़ोतरी दर्ज की गई। देखते ही देखते हमारा शहर भी देश के टॉप आपराधिक गतिविधियों वाले शहरों में शुमार हो गया। लगभग रोजाना ही शहर के थानों में कई दर्जन केस होने लगे। गुंडों के आतंक से जनता में रोष व्याप्त होने लगा था। आम जनता हाहाकार कर रही थी।

2003 में प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने के बाद हमारे नेतृत्व ने यह सुनिश्चित किया कि आम जनता को अब गुंडे बदमाशों के आतंक से मुक्ति दिलाना ही हमारी पहली प्राथमिकता है। प्रदेश सरकार ने इस दिशा में कई कड़े फैसले लागू किए जिसका की दीर्घकालिक एवं व्यापक असर देखने को मिला।

हमारी पुलिस ने गुंडों की धरपकड़ के लिए ‘गुंडा अभियान’ चलाया जिसे देशभर में सराहा गया। शहर के हर एक नामी गुंडे बदमाश को पकड़कर सलाखों के पीछे डाल दिया गया। जनता के मन से इनका आतंक खत्म किया गया। आज शहर के साथ साथ प्रदेश की आम जनता भी खुली आबोहवा में निश्चिंतता की सांस ले रही है। वे अच्छी तरह जान चुके है शिवराज सरकार में आमजन को कोई भी बिना वजह परेशान नहीं कर सकता।

‘क्योंकि यह जनता द्वारा चुनी गई जनता की सरकार है।’